आज़ादी के तराने - झांसी की रानी


आइये आज बात करते हैं सुभद्रा कुमारी चौहान की प्रसिध्द कविता – झांसी की रानी की. उनकी इस कविता ने स्वतंत्रता आंदोलन के समय लोगों को आज़ादी की लड़ाई के लिये इतना प्रेरित किया कि यह कविता बच्चे-बच्चे की ज़ुबान पर छा गई और झांसी की रानी की कहानी के साथ ही स्वयं सुभद्रा कुमारी चौहान भी एक किंवदंती बन गईं. इस कविता में कुछ ही पंक्तियों में सुभद्रा कुमारी चौहान ने झांसी की रानी लक्षमीबाई की पूरी जीवनगाथा और वीरता का ऐसा वर्णन किया है कि पढ़ने वाले के रोंगटे खड़े हो जाते हैं.

सुभद्रा कुमारी चौहान का जन्म 16 अगस्त 1904 को इलाहाबाद के निकट निहालपुर गांव में हुआ था. खंडवा के ठाकुर लक्षमणसिंह से विवाह के पश्चात् वे जबलपुर आ गईं. बाद में वे महात्मा गांधी की अनुयायी हो गई. वे पहली महिला सत्याीग्रही थीं, और स्वतंत्रता संग्राम के दौरान उन्होने कई बार जेल की यातनाएं सहीं. आइये पहले उनकी कविता पढ़ते हैं –

सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,
बूढ़े भारत में भी आई फिर से नयी जवानी थी,
गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी,
दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी॥

चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

कानपूर के नाना की, मुँहबोली बहन छबीली थी,
लक्ष्मीबाई नाम, पिता की वह संतान अकेली थी,
नाना के सँग पढ़ती थी वह, नाना के सँग खेली थी,
बरछी, ढाल, कृपाण, कटारी उसकी यही सहेली थी॥

वीर शिवाजी की गाथायें उसको याद ज़बानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

लक्ष्मी थी या दुर्गा थी वह स्वयं वीरता की अवतार,
देख मराठे पुलकित होते उसकी तलवारों के वार,
नकली युद्ध-व्यूह की रचना और खेलना खूब शिकार,
सैन्य घेरना, दुर्ग तोड़ना ये थे उसके प्रिय खिलवाड़॥

महाराष्ट्र-कुल-देवी उसकी भी आराध्य भवानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

हुई वीरता की वैभव के साथ सगाई झाँसी में,
ब्याह हुआ रानी बन आई लक्ष्मीबाई झाँसी में,
राजमहल में बजी बधाई खुशियाँ छाई झाँसी में,
सुघट बुंदेलों की विरुदावलि-सी वह आयी थी झांसी में॥

चित्रा ने अर्जुन को पाया, शिव को मिली भवानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

उदित हुआ सौभाग्य, मुदित महलों में उजियाली छाई,
किंतु कालगति चुपके-चुपके काली घटा घेर लाई,
तीर चलाने वाले कर में उसे चूड़ियाँ कब भाई,
रानी विधवा हुई, हाय! विधि को भी नहीं दया आई॥

निसंतान मरे राजाजी रानी शोक-समानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

बुझा दीप झाँसी का तब डलहौज़ी मन में हरषाया,
राज्य हड़प करने का उसने यह अच्छा अवसर पाया,
फ़ौरन फौजें भेज दुर्ग पर अपना झंडा फहराया,
लावारिस का वारिस बनकर ब्रिटिश राज्य झाँसी आया॥

अश्रुपूर्ण रानी ने देखा झाँसी हुई बिरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

अनुनय विनय नहीं सुनती है, विकट शासकों की माया,
व्यापारी बन दया चाहता था जब यह भारत आया,
डलहौज़ी ने पैर पसारे, अब तो पलट गई काया,
राजाओं नव्वाबों को भी उसने पैरों ठुकराया॥

रानी दासी बनी, बनी यह दासी अब महरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

छिनी राजधानी दिल्ली की, लखनऊ छीना बातों-बात,
कैद पेशवा था बिठूर में, हुआ नागपुर का भी घात,
उदैपुर, तंजौर, सतारा,कर्नाटक की कौन बिसात?
जब कि सिंध, पंजाब ब्रह्म पर अभी हुआ था वज्र-निपात॥

बंगाले, मद्रास आदि की भी तो वही कहानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

रानी रोयीं रनिवासों में, बेगम ग़म से थीं बेज़ार,
उनके गहने कपड़े बिकते थे कलकत्ते के बाज़ार,
सरे आम नीलाम छापते थे अंग्रेज़ों के अखबार,
नागपुर के ज़ेवर ले लो लखनऊ के लो नौलख हार ॥

यों परदे की इज़्ज़त परदेशी के हाथ बिकानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

कुटियों में भी विषम वेदना, महलों में आहत अपमान,
वीर सैनिकों के मन में था अपने पुरखों का अभिमान,
नाना धुंधूपंत पेशवा जुटा रहा था सब सामान,
बहिन छबीली ने रण-चण्डी का कर दिया प्रकट आहवान॥

हुआ यज्ञ प्रारम्भ उन्हें तो सोई ज्योति जगानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

महलों ने दी आग, झोंपड़ी ने ज्वाला सुलगाई थी,
यह स्वतंत्रता की चिनगारी अंतरतम से आई थी,
झाँसी चेती, दिल्ली चेती, लखनऊ लपटें छाई थी,
मेरठ, कानपुर,पटना ने भारी धूम मचाई थी॥

जबलपुर, कोल्हापुर में भी कुछ हलचल उकसानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

इस स्वतंत्रता महायज्ञ में कई वीरवर आए काम,
नाना धुंधूपंत, ताँतिया, चतुर अज़ीमुल्ला सरनाम,
अहमदशाह मौलवी, ठाकुर कुँवरसिंह सैनिक अभिराम,
भारत के इतिहास गगन में अमर रहेंगे जिनके नाम॥

लेकिन आज जुर्म कहलाती उनकी जो कुरबानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

इनकी गाथा छोड़, चले हम झाँसी के मैदानों में,
जहाँ खड़ी है लक्ष्मीबाई मर्द बनी मर्दानों में,
लेफ्टिनेंट वाकर आ पहुँचा, आगे बढ़ा जवानों में,
रानी ने तलवार खींच ली, हुया द्वंद असमानों में॥

ज़ख्मी होकर वाकर भागा, उसे अजब हैरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

रानी बढ़ी कालपी आई, कर सौ मील निरंतर पार,
घोड़ा थक कर गिरा भूमि पर गया स्वर्ग तत्काल सिधार,
यमुना तट पर अंग्रेज़ों ने फिर खाई रानी से हार,
विजयी रानी आगे चल दी, किया ग्वालियर पर अधिकार॥

अंग्रेज़ों के मित्र सिंधिया ने छोड़ी राजधानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

विजय मिली, पर अंग्रेज़ों की फिर सेना घिर आई थी,
अबके जनरल स्मिथ सम्मुख था, उसने मुहँ की खाई थी,
काना और मंदरा सखियाँ रानी के संग आई थी,
युद्ध श्रेत्र में उन दोनों ने भारी मार मचाई थी॥

पर पीछे ह्यूरोज़ आ गया, हाय! घिरी अब रानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

तो भी रानी मार काट कर चलती बनी सैन्य के पार,
किन्तु सामने नाला आया, था वह संकट विषम अपार,
घोड़ा अड़ा, नया घोड़ा था, इतने में आ गये सवार,
रानी एक, शत्रु बहुतेरे, होने लगे वार-पर-वार॥

घायल होकर गिरी सिंहनी उसे वीर गति पानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

रानी गई सिधार चिता अब उसकी दिव्य सवारी थी,
मिला तेज से तेज, तेज की वह सच्ची अधिकारी थी,
अभी उम्र कुल तेइस की थी, मनुज नहीं अवतारी थी,
हमको जीवित करने आयी बन स्वतंत्रता-नारी थी॥

दिखा गई पथ, सिखा गई हमको जो सीख सिखानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

जाओ रानी याद रखेंगे ये कृतज्ञ भारतवासी,
यह तेरा बलिदान जगावेगा स्वतंत्रता अविनासी,
होवे चुप इतिहास, लगे सच्चाई को चाहे फाँसी,
हो मदमाती विजय, मिटा दे गोलों से चाहे झाँसी॥

तेरा स्मारक तू ही होगी, तू खुद अमिट निशानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥

इस कविता को भारत के प्रथम स्वगतंत्रता संग्राम के 150 वर्ष पूरे होने के अवसर पर शुभा मुद्गल जी ने संसद के विशेष कार्यक्रम में गाया है, जिसे लोक सभा टेलीविज़न ने प्रस्तुत किया है –

इस बेहद रोमांचक कविता को अब एक एनिमेशन फि‍ल्म में देखिये –

सुभद्रा कुमारी चौहान ने कुछ और भी बहुत अच्छी देशभक्तिपूर्ण रचनाएं लिखी है, जो वर्षो से देश पर कुर्बान होने वालों को रोमांचित करती आई हैं. इनमें से कुछ महत्वपूर्ण रचनाएं नीचे देखिये –


वीरों का कैसा हो वंसंत



जलियांवाला बाग में बंसंत



झांसी की रानी की समाधि पर


6  

Add Your Comments Here :-
 

Comments :

Sonny On: 09/06/2018

real beauty page https://www.drugonsale.com cheap order drugs I m not playing the offense card here.  It would probably be better if we all loosened up about these things.  But, I m willing to bet at pretty long odds that , if research correlated female breast size with maternal behavior, Time.com would *not* have published an article that included terms like, mellons, titties, casabas, headlights, rack, boobies, and so forth.  If I m right about that, why is that true?  Why is it that the only acceptable words for reporting about female anatomy are clinical words and anything goes when reporting about men s anatomy?  I d be particularly interested in Ms. Luscombe s thoughts on that.

Arthur On: 09/06/2018

What do you study? https://www.drugonsale.com cheap order drugs Michael Steele, former chairman of the Republican National Committee, said during the show that the question now is whether it s proper for the federal government to tell states with stand-your-ground laws how to change or remake them. His answer: No. I mean, this is something that s going to have to be worked out state by state.

Delmar On: 09/06/2018

What do you do for a living? https://www.drugonsale.com online pharmacy A deputy ambassador from Sweden met with Bae at the hospital Friday, Chung said. Sweden represents American interests in North Korea because the U.S. has no official diplomatic relations with the country.

Luther On: 09/06/2018

We used to work together https://www.drugonsale.com cheap order drugs Wheeler has now pitched 163-2/3 innings this season (95 at the major league level) and he is approaching the innings limit the team has set, believed to be 170-180. He is almost sure to get at least one more start.

Fidel On: 09/06/2018

Could you transfer $1000 from my current account to my deposit account? https://www.drugonsale.com levitra GREENE: And you know, I guess one question about this case, Dave, if Bradley Manning is convicted, and how this sort of comes together, is there a precedent that will be created for cases against other alleged leakers? And I m thinking of a name we ve heard a lot recently, and that s Edward Snowden.

Eli On: 09/06/2018

Could you please repeat that? https://www.drugonsale.com purchase medication online Daoud, who runs a marketing and business development firm but has worked in the past as a bug tester for a mobile network company, says he’s already contacted Apple’s security team and described the flaw. After requesting more information and a video, an Apple contact wrote to him again to thank him for the information, telling him it would be fixed in an upcoming software update. I’ve also called Apple asking for more information and I’ll update this post if I hear back from the company.

Kendall On: 09/06/2018

Free medical insurance https://www.drugonsale.com viagra In his book Goal, Manchester City chief executive Ferran Soriano says he usually aims to pay two-thirds fixed salary and one-third variable based on the success of the team and a player playing at least 60% of first-team matches .

Valentine On: 09/06/2018

Have you seen any good films recently? https://www.drugonsale.com purchase medication online Now in its second year, OpenCo is billed by its organizersas a novel twist on traditional staid business conferences, andan opportunity for investors, entrepreneurs and even job-seekersto get a close-up look at the San Francisco-area tech scene.Companies that throw open their doors, in turn, get a chance tomeet potential talent, gather feedback and make connections.

Branden On: 26/05/2018

An envelope https://www.drugonsale.com kamagra The Reid brothers themselves have an early cameo, stumbling out of a bar on Constitution Street while Davy and Ally strut past while crooning I’m on My Way – last heard in cinemas during 2001’s Shrek – but the face you are really waiting for is Peter Mullan’s, and more importantly, the noises that come out of it when it is bidden to sing.

Judi On: 12/05/2018

1mwOmV https://www.genericpharmacydrug.com

Judi On: 11/05/2018

GHCBod https://www.genericpharmacydrug.com

mike11 On: 17/04/2018

9ukNye https://www.genericpharmacydrug.com

mike11 On: 16/04/2018

6G6FRO https://www.genericpharmacydrug.com

ViSHWAS kumar tiwari On: 07/01/2018

आपका सराहनिय प्रयाय वर्तमान समय मे ऐसे से कवियो की आवश्यकता है ।कवि ही अपनी ओजस्वी कविता के बल पर लोगो की आत्मा को झकोर कर वीर रस से ओतप्रोत कर देवभक्ति की भावना विकसित करने की क्षमता होता है ।

ViSHWAS kumar tiwari On: 07/01/2018

आपका सराहनिय प्रयाय वर्तमान समय मे ऐसे से कवियो की आवश्यकता है ।कवि ही अपनी ओजस्वी कविता के बल पर लोगो की आत्मा को झकोर कर वीर रस से ओतप्रोत कर देवभक्ति की भावना विकसित करने की क्षमता होता है ।

ViSHWAS kumar tiwari On: 07/01/2018

आपका सराहनिय प्रयाय वर्तमान समय मे ऐसे से कवियो की आवश्यकता है ।कवि ही अपनी ओजस्वी कविता के बल पर लोगो की आत्मा को झकोर कर वीर रस से ओतप्रोत कर देवभक्ति की भावना विकसित करने की क्षमता होता है ।

देवनारायण यादव On: 07/01/2018

बहुत सुन्दर आज भी सुभद्रा जी की यह कविता पड़ के मन देश भक्ति से ओतप्रोत हो जाता है। साथ ही यह भी याद ताजा हो जाती है कि फिरंगियों ने क्या-क्या जुल्म किये थे हम भारत वासियों पे। *इंकलाब जिंदाबाद*
Members :698